Kumbh Mela

परिवहन निगम द्वारा मेले में की गयी व्यवस्था

 

महाकुम्भ प्रत्येक बारह वर्ष के अन्तराल पर पड़ता है एवं महाकुम्भ में करोड़ो श्रद्धालु स्नान करने आते है। इस वर्ष इलाहाबाद में पड़ने वाले महाकुम्भ पर्व में श्रद्धालुओं के आने तथा स्नान के पश्चात् इलाहाबाद से अपने गंतव्य को वापस जाने हेतु परिवहन निगम अपनी सुसज्जित बसें पर्याप्त मात्रा में लगाई जा रही है। इस हेतु परिवहन निगम ने सुचारु संचालन / यातायात के लिये निम्न कार्ययोजना तैयार की है।

 

 

श्रद्धालुओं की भारी संख्या को देखते हुये निगम ने 6000 बसें लगाने की कार्ययोजना तैयार की है।

 

प्रथम चरण

प्रथम चरण में निगम द्वारा आगणित श्रद्धालुओं की संख्या को देखते हुये 1800 बसों का आयोजन किया है। यह सभी बसें इलाहाबाद कुम्भ मेला क्षेत्र के आस पास के क्षेत्रों से किया जायेगा जैसे वाराणसी, आजमगढ़, गोरखपुर, फैजाबाद, चित्रकूट, कानपुर और देवीपाटन इत्यादि। इन क्षेत्रों का मार्गवार आवंटन कर बसों की संख्या व सम्भावित मार्गों का नाम बता दिया गया है। इन सम्भावित मार्गे व उन पर आवश्यकतानुसार सम्भावित बसों की संख्या पूर्व महाकुम्भ मेला में संचालित बसों तथा जनसंख्या में वृद्धि के आधार पर किया गया है। आगणन उपरान्त मार्गों पर पर्याप्त संख्या में बसों का आवंटन कर क्षेत्रों को आवश्यक निर्देश प्रसारित किये गये हैं। उक्त प्रकार आवंटित बसों के अतिरिक्त 500 बसों को रिजर्व के रुप में रखा गया है। यह रिजर्व बसें उन क्षेत्रों से ली जायेगी जो श्रद्धालुओं को मेला परिसर में लायेंगे। यह बसें अधिकतम 100 कि.मी. दूरी के मार्गों पर स्थानीय स्तर पर संचालित करायी जायेंगी जिनको मात्र दो घंटे के अल्प समय में ही मांग के अनुरुप उपलब्ध कराया जा सकेगा।

 

द्वितीय चरण

द्वितीय चरण में मुख्य स्नान ''मौनी अमावस्या'' है। इस स्नानपर्व पर सबसे अधिक भीड़ होती है। इस भीड़ के दृष्टिगत् परिवहन निगम द्वारा 6000 बसों का आवंटन कर योजनाबद्ध तरीके से किया गया है। इस मुख्य पर्व हेतु अधिसंख्य श्रद्धालु दिनांक 06.02.2013 से ही मेला क्षेत्र में आना प्रारम्भ कर देंगे। इन 3550 बसों के साथ साथ 450 बसें रिजर्व रुप में भी रखी गई हैं। यह बसें अधिकतम 100 कि.मी. दूरी के मार्गों पर स्थानीय स्तर पर संचालित करायी जायेंगी जिनको मात्र दो घंटे के अल्प समय में ही मांग के अनुरुप उपलब्ध कराया जा सकेगा।


दिनांक 10.02.2013 को मुख्य पर्व ''मौनी अमावस्या'' स्नान के पश्चात् श्रद्धालुओं की गंतव्य वापसी हेतु यात्रियों का दबाव बढ़ेगा। परिवहन निगम द्वारा इस हेतु 2000 अतिरिक्त बसों की व्यवस्था की गई है, जो सीधे मेला क्षेत्र, इलाहाबाद में दिनांक 09.02.2013 से श्रद्धालुओं को विभिन्न गन्तव्य स्थानों हेतु उपलब्ध होंगी, ताकि श्रद्धालुओं की वापसी के दबाव को कम किया जा सके। इस प्रकार कुल 6000 बसें विभिन्न मेला पर्वों पर श्रद्धालुओं को परिवहन सुविधा उपलब्ध करायेंगी। यदि 450 रिजर्व बसें द्वितीय चरण में दिनांक 06.02.2013 से प्रयोग में नहीं आती हैं तो यह बसें दिनांक 09.02.2013 से श्रद्धालुओं के इलाहाबाद से वापसी हेतु सीधे झूसी मेला ग्राउण्ड पहुँच जायेंगी।

 

तृतीय चरण

तृतीय चरण दिनांक 17.02.2013 से 10.03.2013 तक है। इस अवधि का मुख्य स्नानपर्व माघी पूर्णिमा तथा महाशिवरात्रि है। इस अवधि में श्रद्धालुओं को 2750 बसों से परिवहन सुविधा उपलब्ध करायी जायेगी तथा 500 बसें रिजर्व रुप में रखी जायेगी।

 

Helpline No. : 1800 180 2877